👉 Bhutiya Kahani 1 भूतिया हवेली 🔥

दोस्तों इस Bhutiya kahani – भूतिया हवेली में आप सभी का स्वागत है यह एक मजेदार Bhutiya Kahani कहानी है यह Bhutiya kahani आपको जरुर पसंद आएँगी. चलिए शुरू करते है हमारी कहानी को .

Bhutiya Kahani | 1 भूतिया हवेली
Bhutiya Kahani | 1 भूतिया हवेली

👉 Bhutiya Kahani | भूतिया हवेली का आरम्भ :

एक लड़का होता है जिसका नाम लक्षित होता है। वो कानपुर मे रहता था। वो पेशे से एक वकील था। वो बहुत ही सीधा सादा लड़का होता है। उसके दफ्तर के पास एक बैंक था। जहाँ एक रोनिका नाम की लड़की काम करती थी। वो बहुत ही चुलबुली होती है। उसे एडवेंचर जैसी चीजे बहुत पसंद होती है। लक्षित रोनिका को पसंद करता था। एक दिन वो रोनिका को शादी के लिए प्रपोज कर देता है।

रोनिका भी शादी के लिए हाँ बोल देती है। कुछ दिनों बाद वो दोनों शादी कर देते है। लक्षित किसी केस पर काम कर रहा था,इसी कारण वो छुट्टी नही ले पा रहा था। ऐसे करके उनकी शादी का 1 साल बीत जाता है। लक्षित समय निकालकर छुट्टी भी ले लेता है। तो ऐसे मे लक्षित मनाली का घूमने का प्लान बनाता है। वही किसी गाँव मे एक हवेली मे एक रूम कर देता है।

दोनों मनाली मे घूमने के लिए जाते हैं। वो कानपुर से ही एक कार बुक करा देते है, ताकि रास्ते मे आसानी से मौसम का आनंद ले सके। मनाली मे एक गाँव से गुजर रहे थे। दोनों खिड़की से वहाँ के वातावरण का आनंद ले रहे थे।

यह भी जरुर पढ़े :-

लक्षित(कार की खिड़की के बाहर झांक कर)रोनिका से कहता है – रोनिका बाहर तो मौसम बहुत ही ज्यादा ठण्डा है। मुझे यहाँ थोड़ा असुरक्षित महसूस हो रहा है।
रोनिका – कुछ भी लक्षित, आप ने ही यह जगह चुनी है घूमने के लिए। जो बहुत ही प्यारी है। मुझे यह तो जगह बहुत ही प्यारी लगी। यहाँ की वादियाँ और पहाड़, साथ ही यहाँ की सुगन्धित हवा से मनमोहक हो जाता है।

लक्षित – तुम्हे यह जगह अच्छी लगी तो, और क्या चाहिए। तुम्हारे खुशी मे मेरे ही खुशी है।

रोनिका – लक्षित तुम कितने प्यारे हो। मुझसे इतना प्यार करते हो ना, यह देखकर मुझे रोना ही आ जाएगा।

दोनों एक दूसरे की तरफ प्यार से देखते है। फिर रोनिका लक्षित के कंधे पर अपना सिर रख देती है। लक्षित उसके माथे पर एक प्यारी सी किस देता है। इस तरह से उनका सफर गुजर जाता है और रात हो जाती हैं।

रात के समय ही वो उस हवेली मे पहुँचते है। कार का ड्राइवर उनका सारा सामान उतार देता है। फिर वहाँ से चला जाता है। रोनिका हवेली को देखकर बहुत ही ज्यादा खुश होती है। और बोलती है- कितनी सुंदर हवेली है एकदम जैसे राजा रानियों का महल हो। लेकिन लक्षित यहाँ पर कोई दिखाई तो नही दे रहा है?

लक्षित रिसेप्‍शन पर जाकर आवाज देता है कोई है क्या?

तभी अचानक से वहाँ एक कंबल ओढ़े एक आदमी आता है। लक्षित उसे पेपर बताते हुए कहता है कि यह देखो! हमने ऊपर वाला रूम बुक कर रखा है। लेकिन वो आदमी उसे बिना कुछ बोले ही उसका सामान उठाकर हवेली के अंदर चला जाता है।

यह सब देखकर रोनिका बोलती है – कितना अजीब आदमी है। उसने तुम्हारे बातों का कुछ भी जवाब नही दिया। बस चल दिया। दिखने मे भी कितना अजीब था।

यह भी जरुर पढ़े :-

वो चौकीदार आदमी उनका सामान नीचे वाले रूम के पास लाकर रख देता है। उस रूम का ताला खोलकर उनका सामान उस रूम मे रख देता है।

रोनिका और लक्षित बोलते है – अरे! हमने हवेली का ऊपर वाला रूम बुक किया। आपने हमे नीचे वाला रूम क्यु दिया। हमने उस रूम के लिए एक्स्ट्रा चार्ज दिया है।

चौकीदार बोलता है – हवेली के मालिक ने आप लोगो को यही रूम देने के लिए बोला, वैसे भी हवेली का ऊपर वाला रूम का बाथरूम पुरा खराब हुआ पड़ा था।

यह सब चीजे रोनिका को अजीब लगती है। लेकिन लक्षित चौकीदार से कहता है – ठीक है! हम इसी रूम मे रुक जाते है। वैसे इस रूम मे लाइट तो है ना। चौकीदार बोलता है मोमबत्तिया है उसे जला देना। कल सुबह बिजली की व्यवस्था कर देंगे। इतना कहकर चौकीदार वहाँ से चल देता है।

चौकीदार के जाने के बाद रोनिका लक्षित से बोलती है – मुझे यह सब सही नही लग रहा है। यहाँ मुझे अजीब सा महसूस हो रहा है। लक्षित हम ऊपर वाले रूम मे जाकर देखेगे, ऐसा वहाँ क्या है? जो चौकीदार हमसे छुपा रहा है। वैसे भी मुझे एडवेंचर की चीज बहुत पसंद है।

Bhutiya Kahani | 1 भूतिया हवेली
Bhutiya Kahani | 1 भूतिया हवेली

लक्षित – बढ़िया! घूमने के साथ तुम्हारा एडवेंचर भी हो जाएगा। चौकीदार के जाने के बाद हम उस ऊपर वाले रूम मे जाएगे।

चौकीदार उन दोनों के लिए खाना लेकर आ ही रहा था,तो वह रूम के बाहर खड़ा होकर उनकी सारी बाते सुन लेता है। फिर बाद मे दरवाजा खटखटाता है, लक्षित दरवाजा खोलता है। उन्हे उनका भोजन देते हुए कहता है कि आप दोनों उस रूम मे जाने की चेष्टा मत करना। वरना अच्छा नही होगा। इतना कहकर वो वहाँ से चल देता है।
रोनिका बोलती है – यह मुझे उकसा रहा है। आज रात को हम हवेली के ऊपर वाले रूम मे जाएगे।

रात के करीब 12 बज जाते है। वो दोनो अपने रूम से टॉर्च लेकर ऊपर वाले रूम की ओर चल देते है। जैसे ही वो दोनो सीढ़ियाँ पर जाते, कुछ देर चढ़ने के बाद वहाँ पर उन्हे काली बिल्ली दिखाई देती है। यह देखकर लक्षित डर जाता है। लेकिन रोनिका उसे संभाल देती है। दोनो ऊपर की ओर चल देते है, उस ऊपर वाले रूम के पास जाकर खड़े हो जाते है।

क्युकी उस रूम मे ताला लगा हुआ था। वो ताला तोड़कर उस रूम के अंदर जाते है। तो रूम से उन्हे सड़ी हुई बदबू आ रही थी। सामान भी पुरा बिखरा हुआ पड़ा था। रोनिका को उस रूम मे एक बंधी मोली दिखाई देती है, तो उस मोली को तोड़ देती है। उस मोली को तोड़ने के बाद उनके सामने एक जली हुई औरत(आत्मा)दिखाई देती है।

वही दूसरी ओर चौकीदार को शक होने के कारण वो उन दोनो के रूम मे जाकर चेक करता है। कही वो लोग ऊपर वाले रूम मे तो नही गए। लेकिन वो उस रूम मे नही होते है। चौकीदार भागकर उन लोगो के पास चला जाता है। जैसे ही वो उस रूम मे जाता है। वो जली हुई औरत(आत्मा) उसे देख लेती है। उसे देखकर गुस्सा हो जाती है, उसे हवा मे लटका देती है। वो चौकीदार उससे माफी मागने लगता है।

मालकिन मुझे माफ कर दो। यह सब मैने मालिक के कहने पर किया। लेकिन वो आत्मा उसे नही छोड़ती, उसे वही जलाकर भस्म कर देती है। पास मे खड़े वो लक्षित और रोनिका बुरी तरीके से डर जाते है।

आत्मा को बोलते है हमे छोड़ दो। हमारी क्या गलती है?

ऐसे ही मजेदार कहानियां अगर आप instagram पर पढना चाहते है

तो आप हमारे instagram पेज @Sirf_Horror को Follow कर सकते है |

आत्मा ने उन दोनो के साथ कुछ नही किया,बल्कि उन दोनो को शुक्रिया कहा।

लक्षित ने उस आत्मा को बोला – बहन! तुम्हारे साथ ऐसा क्या हुआ? क्यु तुमने इस चौकीदार को मार दिया?

उसने अपने साथ हुई घटना बताई। मेरा नाम रिया है। मै अपने पिता की एकलौती संतान थी। मेरे पिता ने मेरी शादी किसी पुलिस अफसर के साथ करा दी। कुछ दिन बाद मेरी पिता की मौत हो गई। उनकी सारी संपति मेरे नाम कर दी। मेरे अलावा यह संपति किसी और की नही हो सकती। मेरे मरने के बाद ही मेरे पति या मेरे संतान की हो सकती है। मेरे पति की नजर मेरे पिता की संपति पर थी। इसलिए उसने मेरे से शादी की। एक दिन उसने घूमने के बहाने मुझे यहाँ लेकर आ गए।

चौकीदार के साथ मिलकर मुझे जिंदा जला देने का प्लान बनाया। मेरे पति ने इस चौकीदार के साथ 5 लाख का सौदा किया। मुझे यह जिंदा जला देगा तो, उसे इनाम में 5 लाख रुपये देगा। चौकीदार को यह भी बोला मैं पुलिस विभाग से हूँ। तुझे मै जेल भी जाने नही दूंगा। इस बात की चिंता मत करना।

फिर चौकीदार ने मुझे इसी रूम मे जिंदा जला दिया। कई मैं आत्मा बनकर उन लोगो को ना मार दूँ। तो उन्होंने तांत्रिक की मदद से मेरी आत्मा को इसी रूम मे कैद करा दिया। हमेशा के लिए इस रूम को बन्द भी कर दिया। तुम लोगो ने आकर मुझे आजाद किया। वरना मेरी आत्मा यही पर भटकती रहती।

लक्षित उसकी सारी बात सुनकर बोलता है – बहन मै कब से इसी केस पर काम कर रहा था। मैं पेशे से वकील भी हु। मै तुझे न्याय दिलवाउगा। लक्षित ने उसके पति पर केस दर्ज करावेगे,उसे फासी की सज़ा दिलवादी।

लक्षित और रोनिका ने रिया की नाम का पूजा पाठ कराया। उनकी विधि विधान से क्रिया कर्म करके रिया की आत्मा को मुक्ति दिला दी।

👉 Bhutiya Kahani | भूतिया हवेली का अंत :

दोस्तों उम्मीद करता हूँ की यह Bhutiya kahani | भूतिया हवेली आपको पसंद आई होंगी और काफी मजेदार लगी होंगी तो हम जल्द ही मिलते है अपनी अगली कहानी में .

आप चाहे तो हमारी यह कहानियां भी पढ़ सकते हैं  :- 

आवश्यक सुचना :- यह Bhutiya kahani | भूतिया हवेली पूरी तरह काल्पनिक है यह Bhutiya kahani किसी भी अन्धविश्वास को बड़ावा देने के लिए नही लिखी गयी है इन्हें सिर्फ मनोरंजन के उद्देश्य से लिखा गया है |

1 thought on “👉 Bhutiya Kahani 1 भूतिया हवेली 🔥”

Leave a Comment