Bhutiya Story in Hindi – Bhutiya Kahani का भाग – 2

तो दोस्तों में उम्मीद करता हूँ की इस यह कहानी Bhutiya Story in Hindi – Bhutiya Kahani का पहला भाग आपको पसंद आया होंगा तो दोस्तों अब शुरू करते है  इस कहानी ( Bhutiya Story in Hindi – 1 Bhutiya Kahani ) का दूसरा भाग पढना , अगर दोस्तों आपने इसका पहला भाग नही पढ़ा है तो आप इसे यहाँ क्लिक करके पढ़ सकते है |

Bhutiya Story in Hindi
Bhutiya Story in Hindi

Bhutiya Story in Hindi – Bhutiya Kahani का भाग – 1 

Bhutiya Story in Hindi – Bhutiya Kahani के भाग 2 का आरम्भ : 

उसके बाल बिखरे हुए थे और आँखों के नीचे काले धब्बे पड़े हुए थे। उसके कपड़ो पर धूल जमी हुई थी। उसकी गर्दन पर एक बड़ा कट लगा हुआ था। तभी उस गर्दन टेढ़ी कर दी और राघव को देखकर खौफनाक तरीके से हँस रही थीं। तभी उसकी आँखे एकदम सफेद हो जाती है। फिर अचानक से गायब हो जाती हैं। यह सब देखजर राघव एकदम चौक हो जाता हैं। उसे यह सब समझ नही आ रहा था, आखिर यह सब क्या हो रहा हैं। उसे ऐसा लग रहा था उसको पागलपन का दोरा पड़ रहा है

वो सहमा हुआ नीचे गार्ड के पास चला जाता है। लेकिन वहाँ गार्ड नही होता है। सोसाइटी के बाहर एक जनरल स्टोर होता है, वो वहाँ चला जाता है। पिछले कुछ दिनों से जनरल स्टोर के मालिक के साथ अच्छी बातचीत होती थी। राघव को ऐसा डर देख जनरल स्टोर का मालिक राघव से पूछता है – क्या हुआ?

राघव – मेरा कोटा मे मन नही लग रहा हैं। यहाँ मे रहकर पागल हो जाऊँगा।

जनरल स्टोर का मालिक – अच्छा! तुम इस सोसाइटी मे कौनसे फ्लैट मे रहते हो?

राघव उस जनरल स्टोर के मालिक को फ्लैट का नंबर बताता है। जनरल स्टोर का मालिक यह सुनकर आश्चर्यचकित हो जाता है।

राघव को बोलता – क्या तुम्हे उस फ्लैट के बारे मे सब पता है?

यह भी जरुर पढ़े :-

राघव को कुछ समझ मे नही आता आखिर यह जनरल स्टोर का मालिक किस बारे मे बात कर रहा है।

जनरल स्टोर का मालिक – इस फ्लैट मे तुम्हारे आने से पहले एक औरत अपनी बेटी के साथ रहती थी। औरत अपनी बेटी पर पढाई को लेकर बहुत ही जोर देती थी। इसी कारणवश उसने पंखे से लटक कर खुदकी जान दे दी।

राघव यह सब सुनकर गहरी सोच मे पड़ गया। वो सोचने लगा जो उसको काली छाया दिखाई दी और कमरे के दरवाजे पर जो लड़की दिखाई दी थी। यह सब उसके पागल पन के दौरे नही,बल्कि सच मे यह सब हो रहा था।

यह सब सोचते सोचते राघव को ख्याल आता है, अब तो रात भी हो गई। कैसी भी करके मुझे उस फ्लैट मे रात तो बितानी ही पड़ेगी। फिर सुबह होते ही वहाँ से चला जाउगा। फिर वो अपने उस फ्लैट के अंदर चला जाता है। और अपने कमरे मे भगवान की तस्वीर लगा देता है। फिर नींद की गोली खाकर सो जाता है। फिर अचानक से पंखे मे से जोर की आवाज आने लगी।

ऐसे ही मजेदार कहानियां अगर आप instagram पर पढना चाहते है

तो आप हमारे instagram पेज @Sirf_Horror को Follow कर सकते है |

इस आवाज़ के चलते राघव की नींद खुल जाती है। नींद खुलने के बाद वो कुछ ऐसा देखता है जिससे उसके पैरो तले जमीन खिचक गई हो। उस सामने एक लड़की पंखे से लटकी हुई दिखाई दी। फिर अचानक से गायब हो जाती है।

यह सब देखकर इतना ज्यादा डर जाता है, कि रात मे ही उस फ्लैट से बिना कुछ लिए ही निकल जाता है। फिर वो पास मे ही किसी मे होटल मे रुक जाता है। वहाँ वो उस फ्लैट के मालिक को काल करके उसकी क्लास लगाता है। अगले ही सुबह अपने दोस्त को साथ मे ले जाकर उस फ्लैट से अपना सारा सामान लेकर आ जाता है। उस फ्लैट से दूर किसी दूसरी जगह पर रहने लग जाता है।

Bhutiya Story in Hindi – Bhutiya Kahani का समापन : 

तो दोस्तों उम्मीद करता हूँ की आपको हमारी यह कहानी जरुर पसंद आई होंगी जल्द ही मिलते है हम अपनी नयी कहानी में , हमारी कहानी पढने के लिए आपका धन्यवाद |

आप चाहे तो हमारी यह कहानियां भी पढ़ सकते हैं  :-

आवश्यक सुचना :- यह कहानी पूरी तरह काल्पनिक है यह कहानी किसी भी अन्धविश्वास को बड़ावा देने के लिए नही लिखी गयी है इन्हें सिर्फ मनोरंजन के उद्देश्य से लिखा गया है |

Leave a Comment